Popular Posts

Sunday, March 4, 2018

Know About - इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (E-Commerce)

ई-कॉमर्स / इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (E-Commerce)

इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (E-Commerce)  इंटरनेट नेटवर्क पर व्यापार करने का एक तरीका है । ई-कॉमर्स के अंतगर्त वस्तुओं या सेवाओं को खरीद या बिक्री इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम जैसे - इंटरनेट के द्वारा होता है । यह इंटरनेट पर व्यापर है । ई-कॉमर्स को व्यापक रूप से इंटरनेट पर उत्पादों की खरीदारी और बिक्री माना जाता है

अभी के  समय में  ई-कॉमर्स,  इंटरनेट के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है । ईकॉमर्स उपभोक्ताओं को समय या दूरी की बिना कोई बाधाओं के साथ वस्तुओं और सेवाओं का इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है । इंटरनेट पर सामान ख़रीदना और बेचना ईकॉमर्स के सबसे लोकप्रिय उदाहरणों में से एक है ।


इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (E-Commerce) के उदाहरण -

  • Online Ticketing 
  • Internet Banking 
  • Online Shopping 
  • Electronic Payments 
  • Online Auctions 

ई-कॉमर्स के प्रमुख लाभ 

  • ई-कॉमर्स का उपयोग से व्यापार,  न्यूनतम पूंजी निवेश के साथ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अपने बाजार का विस्तार कर सकता है । 
  • ई-कॉमर्स से कंपनी की ब्रांड छवि को बेहतर बनता है । 
  • ई-कॉमर्स व्यापार में बेहतर ग्राहक सेवाएं प्रदान करने में सहायता करता है । 
  • ई-कॉमर्स व्यापार प्रक्रियाओं को सरल बनाने और उन्हें तेज़ और कुशल बनाने में मदद करता है । 
  • ई-कॉमर्स में कागजी  कार्य  बहुत कम हो जाता है । 
  • ई-कॉमर्स से उत्पादकता में वृद्धि होती है  । 
  • ई-कॉमर्स से उत्पादों की लागत में  कमी  आती  है इसलिए कम आय के लोग भी उत्पादों को खरीद सकते हैं । 

ई-कॉमर्स के प्रकार - 

व्यापार से व्यापार ई-कॉमर्स            (B2B E-commerce) 
व्यापार से उपभोक्ता ई-कॉमर्स        (B2C Ecommerce) 
उपभोक्ता से व्यापार ई-कॉमर्स         (C2B Ecommerce) 
उपभोक्ता से  उपभोक्ता  ई-कॉमर्स   (C2C E-commerce)


इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स का नुकसान

कुछ व्यवसायों में इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स  कम उपयुक्त हैं। इस तरह के कारोबार जिसमे प्रोडक्ट जल्दी खराब हो जाता  हो या उच्च लागत लगता  हैं, या जो प्रोडक्ट को खरीदने से पहले निरीक्षण की आवश्यकता होती है आदि इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स के लिए  कम उपयुक्त हैं।

ई-कॉमर्स के प्रमुख नुकसान

♦ वापसी पर निवेश की गणना करने के लिए मुश्किल होती है।
♦  कई कंपनियों के तकनीकी, डिजाइन के साथ तालमेल के प्रदर्सन करने पर असर   
♦  कर्मचारियों के भर्ती  पर असर पड़ा है, 
♦  इलेक्ट्रॉनिक वाणिज्य के लिए ,  पारंपरिक वाणिज्य के लिए डिजाइन मौजूदा डेटाबेस और लेनदेन प्रसंस्करण सॉफ्टवेयर को एकीकृत करने की कठिनाई
♦ कई व्यवसायों में  इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स  के लिए सांस्कृतिक और कानूनी बाधाओं का सामना।

ई-कॉमर्स के  व्यापार / रोजगार/ सेवाए 

  • ऑनलाइन स्टोर के वेबसाइटों पर ऑनलाइन कैटलॉग
  • खरीदने / बेचने के लिए  ऑनलाइन बाजार।
  •  वेब संपर्क और सामाजिक मीडिया के माध्यम से जनसांख्यिकीय डेटा का उपयोग।
  • इलेक्ट्रॉनिक डेटा इंटरचेंज, व्यापार से व्यापार एक्सचेंज डेटा का उपयोग।
  • ई-मेल या फ़ैक्स  के साथ द्वारा भावी और स्थापीत ग्राहकों तक पहुँच।
  • व्यापार से व्यापार खरीदने और बेचने में ।
  • सुरक्षित व्यापारीक लेनदेन ।
  • नए उत्पादों और सेवाओं की शुरूआत के लिए प्रचार एव प्रसार 

गैर परंपरागत व्यापारिक अवसर
  • उपभोक्ता उन्मुख सूचना सेवाएँ, उदाहरण के लिए स्थानीय वर्गीकृत विज्ञापन यथा किराया/संपत्ति समाचार, वर्तमान घटनायें, पारिवारिक कानून, लघु व्यापार कानून, आदि
  • व्यवसायोन्मुख जानकारी सेवाएं यथा बिजनेस लॉ, कंपनी प्रोफाइल, जैसे नौकरी निविदाएं, डेटाबेस, स्टॉक और वित्तीय जानकारी
  • मनोरंजन- जैसे खेल, संगीत और कला प्रदर्शन।
  • हेल्प फ़ाइलें, कंप्यूटर अनुप्रयोग एवं इमेज फ़ाइलों के लिए फ़ाइल संग्रह सेवा।
  •  इलेक्ट्रॉनिक मॉल
  • इंटरनेट निर्देशिका सेवा जिससे पंजीकरण, खोज और विज्ञापन शुल्कों द्वारा आर्थिक लाभ मिल सकता है
  • इंटरैक्टिव सेवाएं जैसे व्यक्तिगत मैच सेवाएं और कॉन्फ्रेंसिंग सेवाएं।
  • बिक्री विज्ञापन जिसमें वह विज्ञापन भी आता है जो उन वेबसाइटों में होता है जहां इन दिनों फेस्बुक विज्ञापन के लिए एक महत्वपूर्ण मंच बन गया है। वहाँ भी इंटरनेट पर विज्ञापन देने के लिए एजेंट  के रूप में एक व्यापारिक संस्था की स्थापना व्यक्तियों द्वारा हो सकती है।
  •  दूरस्थ शिक्षा
  • इलेक्ट्रॉनिक नकद सेवाएं
  •  इंटरनेट सुरक्षा सेवाएँ
  • तकनीकी सहायता और परामर्श
  • भाषा अनुवाद सेवा
  • प्रकाशन एवं पत्रिकाएं