Popular Posts

Thursday, May 21, 2015

SEO - Improve कीजिये pagerank

Pagerank क्‍या होती है 

लेरीपेज द्वारा वर्ष 1995 में एक वेबपेजों और वेवसाइटों के लिये लिंक विश्‍लेषण प्रोग्राम विकसित किया गया, जिससे साइट को उसकी लोकप्रियता के आधार पर एक रैंक या अंक प्रदान की जाता था, इस कारण इसका नाम Pagerank रखा गया। किसी पेज के लिये pagerank उसकी लोकप्रियता के दर्जे या श्रेणी को प्रदर्शित करती है, यह 0 से लेकर 10 तक के अंको के बीच होती है। 0 का मतलब सबसे कम लोकप्रिय पेज और 10 का मतलब सबसे अधिक लोकप्रिय पेज या साइट। अगर आपके ब्‍लाग की Pagerank 0 है तो निराश ना हों। क्‍यों कि यह 1 वर्ष में 1 या 2 बार ही अपडेट की जाती है। 

Pagerank क्‍यों बढाई जाये। 

जैसा कि मैंने पहले ही बताया है पेजरेंक किसी भी साइट की लोकप्रियता को प्रदर्शित करता है, जो सीधी सी बात कि जो साइट अधिक लोकप्रिय होगी। गूगल के अनुसार अधिक Pagerank वाले पृष्ठों से प्राप्त लिंक्स को अधिक मूल्यवान माना जाता है, अतः वे अधिक महंगे होते हैं। उन विज्ञापनों की दरें अधिक मॅहगी होती है। लोकप्रिय या पोपूलर साइट को आसनी से विज्ञापन प्राप्‍त हो जाते हैं। जिससे उनकी अच्‍छी कमाई होती है। गूगल की कमाई का 97 प्रतिशत हिस्‍सा उस पर दिखाये गये विज्ञापनों के माध्‍यम से आता है। तो अगर आप ब्‍लागिंग करते हैं, और काफी मेहनत करते हैं, तो अगर उस मेहनत से कुछ कमाई भी हो जाये तो बुरा क्‍या है। आखिर मेहनत की कमाई तो सबको पंसद है।

Pagerank कैसे बढ़ाई जाये

Pagerank बढ़ाने के कई तरीके, नियम और रणनीति है, आप गूगल सर्च इंजिन इष्टतमीकरण Google SEO Tips & Tactics का प्रयोग कर अपने ब्‍लाग/साइट को अधिक लोकप्रिय बना सकते हैं। यह नियम और रणनीति खुद गूगल के द्वारा ही बताई गयी हैं बस इन्‍हें फोलो करते जाईये, आपकी Pagerank स्‍वत ही बढने लगेगी। कुछ Google SEO Tips Hindi में मैं आपको पहले ही बता चुका हॅू जिन्‍हे आप नीचे क्लिक कर पढ सकते हैं -


मेटा  सेट  कैसे  लगते  है


सबसे  पहले  मेटा  मई  टाइटल  टैग लगता  है  फिर  डिस्क्रिप्शन टैग  or  third  no.  पैर  कीवर्ड  टैग 
इसको  लग्न  बहुत  ही  सिंपल  होता है or  इसे your  मेटा के  अंदर  ही  लगाना  होता  है 


SEO ke part


SEO के  पार्ट 

Seo  में 2 पार्ट  होते  है 

1st पार्ट में Onpage SEO  एण्ड  सेकंड  पार्ट  में Off page SEO 

Onpage seo mai

meta tag
title tag
heading
sitemap
ror
rss
image optimization
keyword optimization
code recoding
aate hai

or off page mai

link building
directory submission
article submission
social bookmarking
press release
blog creation ,blog posting ,blogging
forum posting


1. अपने ब्‍लाग या साइट का नेवीगेशन सरल बनायें

आप जो भी ब्‍लाग या साइट बना रहे हैं, या पूर्व से चला रहें है तो ध्‍यान रखें कि आपके ब्‍लाग का नेवीगेशन इस प्रकार का हो कि पाठक को सामग्री तलाशने में कोई परेशानी न हो, क्‍योंकि सरल नेवीगेशन एक ब्‍लाग या साइट के लिये बहुत ही आवश्‍यक होता है यह मदद करता है किसी भी पाठक को आपके ब्‍लाग/साइट पर सामग्री खोजने के लिये जो भी वह पाठक चाहता है। कुछ ब्‍लाग के नेवीगेशन इस प्रकार के होते हैं कि नई पोस्‍ट तो आराम से पढ ली जाती है किन्‍तु पुरानी पोस्‍ट पढने के लिये पाठक को इधर उधन भटकना पढता है, जिस कारण कभी कभी पाठक साइट को इग्‍नोर या बन्‍द कर देता है, जहॉ तक सम्‍भव हो ब्‍लाग के सभी Content या सामग्री से जुडे लिंक होमपेज पर देने की कोशिश करें, जिससे पाठक आसानी से आपकी सामग्री को खोज सके और वह आपके ब्‍लाग पर अधिक समय बिता सके। अगर हो सके तो होमपेज पर ड्रॉप डाउन मीनू का प्रयोग करें, जिससे आप किसी भी टॉपिक के रिलेटिड टॉपिक के लिंकों को व्‍यवस्थित कर सकें।

2.  अपने ब्‍लाग सामग्री में गुणवत्‍ता बनाये रखिये

केवल काम चलाने के लिये या खानापूर्ति के लिये नहीं लिखें, वरन अपने लेखों में गुणवत्‍ता लायें, पाइन्‍ट टू पाइन्‍ट लिखें अपनी भाषा सीधी व सरल रखें, हो सके तो आम बोलचाल की भाषा का प्रयोग करें, जिससे पाठक की समझ में आसानी से आ जाये और पाठक का जुडाव भी आप से बन जाये। किन्‍तु गुणवत्‍ता का अर्थ यह न लगायें, कि लेख बहुत लम्‍बा चौडा होना चाहिये, लेख न ज्‍यादा बडा हो न ज्‍यादा छोटा हो कम शब्‍दों में सटीक बात कहता हो, गूगल सर्च इंजन पर आपका ब्‍लॉग तभी शीर्ष पेजों पर प्रर्दशित होगा, जब उसमें कुछ नयापन हो। गूगल ऐसे लेखों की तलाश में रहता है तो अगर गूगल पर चमकना है तो कुछ नया और अच्‍छा लिखते रहिये।

3. टैग/लेबल से ब्‍लाग को व्‍यवस्थित रखिये

बहुत से लोग ब्‍लाग लिखते समय टैग/लेबल पर ध्‍यान देना उचित नहीं समझते हैं, या शायद कुछ ब्‍लागर्स को इसका प्रयोग ही नहीं पता होता है, टैग आपकी पोस्‍ट का सबसे जरूरी हिस्‍सा होता है, टैग/लेबल आपकी पोस्‍टों को आपके ब्‍लाग पर ठीक उसी प्रकार व्‍यवस्थित करता है जैसे फोल्‍डर आपके कम्‍प्‍यूटर की सारी फाइलों को व्‍यवस्थित रखते हैं। आपके द्वारा डाले गये टैग पर क्लिक करके सम्‍बन्धित पोस्‍टों को आसानी से पढा जा सकता है। इसलिये टैब मैनेजमेन्‍ट का भी आपके ब्‍लाग को व्‍यवस्थित रखने में महत्‍वपूर्ण स्‍थान है। उदाहरण के लिये मैने Google seo tips in hindi नाम से इस लेख से सम्‍बन्धित सभी लेखों को टैग किया, अब पाठक केवल Google seo tips in hindi पर क्लिक करके मेरे इन सभी लेखों को कभी भी आराम से पढ सकता है। इसलिये टैग डालने से पहले यह भी ध्‍यान रखें कि टैग आपके लेख से सम्‍बन्धित हो अन्‍यथा वह बेकार ही साबित होगा।

4.  अपने ब्‍लाग का सही तरीके से प्रचार कीजिये

ब्‍लाग को भी मार्केटिंग या प्रचार प्रसार की आवश्‍यकता होती है, आप जानते ही हैं आज के समय में मार्केटिंग का महत्‍व है, आपने देखा ही होगा किसी भी फिल्‍म के रिलीज होने से पहले अभिनेता/कलाकार टीवी सीरीयल, बेवसाइट, पोस्‍टर आदि से अपने फिल्‍म की मार्केटिंग करते हैं, रियलिटी शो पर जाकर फिल्‍म का प्रचार करते हैं, जिससे फिल्‍म को देखने की उत्‍सुकता बढती है, इसी प्रकार आप भी अगर सही जगह पर अपने ब्‍लाग का प्रचार करेगें तो निश्चित ही आपके ब्‍लाग पर विजिटरर्स की बाढ आ जायेगी। इस प्रक्रिया को ब्‍लाग प्रमोशन (blog promotion) कहते हैं अब प्रश्‍न यह है कि यह किया कहॉ कहॉ जाये, तो ब्‍लाग प्रमोशन के लिये आप दूसरे ब्‍लागर्स के ब्‍लाग पर टिप्‍पणी के रूप में अपने ब्‍लाग का बैकलिंक छोड सकते हो। लेकिन याद रहे ज्‍यादा लम्‍बे लिंक से आपको स्‍पैम में डाला जा सकता है, साथ ही अपने टिप्‍पणी की भाषा को शालीन रखें। दूसरा प्रमोशन आप (Social media service) सोशल मीडिया सर्विस जैसे, Facebook, Twitter,LinkedIn, Pinterest, MySpace, Google Plus+, DeviantArt, LiveJournal, Tagged, myLife, Multiply पर अपने एकाउन्‍ट बनाकर अपने ब्‍लाग और पोस्‍टों को अपने मित्रों के साथ साझा कीजिये। तीसरा तरीका ई-मेल तथा पोस्‍टर पैम्‍पलेट के माध्‍यम से भी आप आपने ब्‍लाग का प्रचार कर सकते हैं। आशा करता हॅू कि इस टिप्स से आप एक popular हिंदी ब्लॉग बना सकते हैं इससे आपका ब्‍लाग एक highest traffic ब्‍लाग बन सकता है।